black magic specialist

वैदिक युग में ऋषियों ने किया था विद्युत् (बिजली) का आविष्कार

महर्षि अगस्त्य एक वैदिक ॠषि थे। इन्हें सप्तर्षियों में से एक माना जाता है। ये वशिष्ठ मुनि (राजा दशरथ के राजकुल गुरु) के बड़े भाई थे। वेदों से लेकर पुराणों में इनकी महानता की अनेक बार चर्चा की गई है, इन्होने अगस्त्य संहिता नामक ग्रन्थ की रचना की जिसमे इन्होँने हर प्रकार का ज्ञान समाहित
Read More

जानिए प्राचीन ऋग्वेद में प्रकाश की गति की गणना किस प्रकार की गयी है

प्रकाश की गति : ऋग्वेद माना जाता है की आधुनिक काल में प्रकाश की गति की गणना Scotland के एक भोतिक विज्ञानी James Clerk Maxwell (13 June 1831 – 5 November 1879) ने की थी । जबकि आधुनिक समय में महर्षि सायण , जो वेदों के महान भाष्यकार थे , ने १४वीं सदी में प्रकाश
Read More

आखिर क्या है धनुषकोटि का रहस्य ?

देवी-देवताओं की भूमि है भारत. यहाँ हर नगर अपनी पौराणिक इतिहास की गाथा को बयां करता है. इन्हीं स्थानों में से एक है धनुषकोटि. यह वही धनुषकोटि है जिसका रामायण में भी वर्णन है. इस धार्मिक स्थान की साथर्कता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि हिन्दू धर्म में धनुषकोटि को पवित्र
Read More