vashikaran specialist

जानिए वशीकरण ध्यान से वशीकरण कैसे करें ?

वशीकरण ध्यान (Meditation) में दुनिया को बदलने कि क्षमता होती है! १९७२ में अमेरिका के ११ शहरों में एक प्रयोग किया गया था, ये प्रयोग तीन सप्ताह तक चला था, इसमें ७००० स्वयंसेवकों ने भाग लिया था, इसके चमत्कारिक परिणाम को दुनिया “महर्षि प्रभाव” या “Maharishi Effect” के नाम से जानती है! ये नाम महर्षि
Read More

जानिए आर्यावर्त की महान सती सुलोचना के बारे में कुछ रोचक बातें

सुलोचना वासुकी नाग की पुत्री और लंका के राजा रावण के पुत्र मेघनाद की पत्नी थी। लक्ष्मण के साथ हुए एक भयंकर युद्ध में मेघनाद का वध हुआ। उसके कटे हुए शीश को भगवान श्रीराम के शिविर में लाया गया था। अपने पती की मृत्यु का समाचार पाकर सुलोचना ने अपने ससुर रावण से राम
Read More

जानिए शिवलिंग का वैज्ञानिक महत्व

शिवलिंग की वैज्ञानिकता …. भारत का रेडियोएक्टिविटी मैप उठा लें, तब हैरान हो जायेगें ! भारत सरकार के नुक्लियर रिएक्टर के अलावा सभी ज्योतिर्लिंगों के स्थानों पर सबसे ज्यादा रेडिएशन पाया जाता है।.. शिवलिंग और कुछ नहीं बल्कि न्यूक्लियर रिएक्टर्स ही हैं, तभी तो उन पर जल चढ़ाया जाता है ताकि वो शांत रहे। महादेव
Read More

इन जगहों का जिक्र रामायण में भी है

इन जगहों का जिक्र रामायण में भी है। इस रिपोर्ट को अपने रीडर्स तक पहुंचाने के लिए हमारे रिपोर्टर्स इन सभी 8 जगहों पर गए। उस दौर के साक्ष्यों को तलाशा। उनसे जुड़ी मान्यताओं और कहानियों की पड़ताल की। तस्वीरें कलेक्ट की। साथ ही इन जानकारियों को वहां के महंतों, इतिहासकारों और रामायण-वेद के जानकारों
Read More

मानव की उत्पति का रहस्य और इतिहास

भारत देश का प्राचीन नाम आर्यावर्त है। आर्यावर्त के पूर्व इसका कोई नाम नहीं था। कहीं-कहीं जम्बूद्वीप का उल्लेख मिलता है। कुछ लोगों का मानना है कि इसे पहले ‘अजनाभ खंड’ कहा जाता था। अजनाभ खंड का अर्थ ब्रह्मा की नाभि या नाभि से उत्पन्न। लेकिन वेद-पुराण और अन्य धर्मग्रंथों के साथ वैज्ञानिक शोधों का
Read More

धर्मग्रंथो में वर्णित 9 रहस्यमयी मणियां

नागमणि को भगवान शेषनाग धारण करते हैं। भारतीय पौराणिक और लोक कथाओं में नागमणि के किस्से आम लोगों के बीच प्रचलित हैं। नागमणि सिर्फ नागों के पास ही होती है। नाग इसे अपने पास इसलिए रखते हैं ताकि उसकी रोशनी के आसपास इकट्ठे हो गए कीड़े-मकोड़ों को वह खाता रहे। हालांकि इसके अलावा भी नागों
Read More

प्राचीन वैदिक भारत की विश्व को देन

प्राचीन वैदिक भारत की विश्व को देन ——————————————- 1. जब कई संस्कृतिया 5000 साल पहले ही घुमंतू जंगली और खानाबदोश थी, तब भारतीय सिंधु घाटी (सिंधुघाटी सभ्यता) में हड़प्पा संस्कृति की स्थापना की | 2. बीज गणित, त्रिकोण मिति और कलन का अध्ययन प्राचीन भारत में ही आरंभ हुआ था | 3. ‘स्थान मूल्य प्रणाली’
Read More

जानिए प्राचीन ऋग्वेद में प्रकाश की गति की गणना किस प्रकार की गयी है

प्रकाश की गति : ऋग्वेद माना जाता है की आधुनिक काल में प्रकाश की गति की गणना Scotland के एक भोतिक विज्ञानी James Clerk Maxwell (13 June 1831 – 5 November 1879) ने की थी । जबकि आधुनिक समय में महर्षि सायण , जो वेदों के महान भाष्यकार थे , ने १४वीं सदी में प्रकाश
Read More

आखिर क्या है धनुषकोटि का रहस्य ?

देवी-देवताओं की भूमि है भारत. यहाँ हर नगर अपनी पौराणिक इतिहास की गाथा को बयां करता है. इन्हीं स्थानों में से एक है धनुषकोटि. यह वही धनुषकोटि है जिसका रामायण में भी वर्णन है. इस धार्मिक स्थान की साथर्कता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि हिन्दू धर्म में धनुषकोटि को पवित्र
Read More

मंदिर जाने का वैज्ञानिक महत्व

– वैदिक पद्धति के अनुसार मंदिर वहां बनाना चाहिए जहां से पृथ्वी की चुम्बकीय तरंगे घनी हो कर जाती है. – इन मंदिरों में गर्भ गृह में देवता की मूर्ती ऐसी जगह पर स्थापित की जाती है. – इस मूर्ती के नीचे ताम्बे के पत्र रखे जाते है जो यह तरंगे अवशोषित करते है. –
Read More