vashikaran

ज्योतिष व शास्त्रो के अनुसार नौ आदते आपके जीवन में अवशय होनी चाईए – पढ़े और सभी को बताए १) अगर आपको कहीं पर भी थूकने की आदत है तो यह निश्चित हैकि आपको यश, सम्मान अगर मुश्किल से मिल भी जाता है तो कभी टिकेगा ही नहीं . wash basin में ही यह काम
Read More

Vashikaran Puja in Navratri

vashikaran puja in NavratriVashikaran Puja in Navratri is very effective vashikaran remedies for any problem solution. Navratri is the famous for Maa Bhawani Stuti for nine days. There are two navaratri is celebrated in India. First Puja held in Hindi Month of Chaitra and second is celebrated in Hindi month ‘Ashwini’ after these nine days of navratri, there is a big festival ‘Dashara’ is celebrated.

Navratri Vashikaran Puja

I have mentioned above that nine days regularly Maa bhawani’s Stuti aradhana, worshiped in these navaratri. In these nine days, Maa bhawani’s is worshiped in her nine different forms. navratri vashikaran Puja of These Nine forms of Maa Durga are:

1. navratri vashikaran Puja of Goddess Shailputri

The first manifestation of Durga is

Best 21 ways to do vashikaran at home

How to do vashikaran at home? it is one of the most asked or searched question in India so today we are elaborating here  the best 21 ways to do vashikaran at home. These all methods are fully tested on various situations. You may get fast result in short spending time. Now let me know why you need to do vashikaran? It may be for love problem solution or other relationship problem solution. Whatever I don’t mind why you need it because it can do every thing.

How to do vashikaran at home with photo

[caption id="attachment_33789" align="alignleft" width="480"]How to do vashikaran at home How to do vashikaran at home[/caption]

Photo vashikaran is most demanded vashikaran service because photo can be get easily. We can get specific person’s photo now a days because in this generation most of the people

Vashikaran Puja in Navratri

vashikaran puja in NavratriVashikaran Puja in Navratri is very effective vashikaran remedies for any problem solution. Navratri is the famous for Maa Bhawani Stuti for nine days. There are two navaratri is celebrated in India. First Puja held in Hindi Month of Chaitra and second is celebrated in Hindi month ‘Ashwini’ after these nine days of navratri, there is a big festival ‘Dashara’ is celebrated.

Navratri Vashikaran Puja

I have mentioned above that nine days regularly Maa bhawani’s Stuti aradhana, worshiped in these navaratri. In these nine days, Maa bhawani’s is worshiped in her nine different forms. navratri vashikaran Puja of These Nine forms of Maa Durga are:

1. navratri vashikaran Puja of Goddess Shailputri

The first manifestation of Durga is

जानिए पौराणिक काल के 24 चर्चित श्राप और उनके पीछे की कहानी

हिन्दू पौराणिक ग्रंथो में अनेको अनेक श्रापों का वर्णन मिलता है। हर श्राप के पीछे कोई न कोई कहानी जरूर मिलती है। आज हम आपको हिन्दू धर्म ग्रंथो में उल्लेखित 24 ऐसे ही प्रसिद्ध श्राप और उनके पीछे की कहानी बताएँगे। 1. युधिष्ठिर का स्त्री जाति को श्राप महाभारत के शांति पर्व के अनुसार युद्ध
Read More

हिन्दू परम्पराएं और उनके वैज्ञानिक कारण

वैसे तो ये सब चीजे हमारे आस पास होती ही रहती है पर फिर भी हम सब ये नही जानते की इनके पीछे क्या कारण है हिन्दू संस्कृति कोई अंधविस्वास पर नही टिकी है इसको विज्ञानिको ने भी सही माना है.ये संस्कृति लाखो हजारो वर्षो से चली आ रही है और आगे भी चलती रहेगी
Read More

भारतीय परम्परा के अनुसार सृष्टि में जीवन का विकास क्रमिक रूप से हुआ है। इसकी अभिव्यक्ति अनेक ग्रंथों में हुई है। श्रीमद्भागवत पुराण में वर्णन आता है- सृष्ट्वा पुराणि विविधान्यजयात्मशक्तया वृक्षान्‌ सरीसृपपशून्‌ खगदंशमत्स्यान्‌। तैस्तैर अतुष्टहृदय: पुरुषं विधाय व्रह्मावलोकधिषणं मुदमाप देव:॥ (११-९-२८ श्रीमद्भागवतपुराण) विश्व की मूलभूत शक्ति सृष्टि के रूप में अभिव्यक्त हुई। इस क्रम में
Read More

इतिहास के ये सात व्यक्ति आज भी जिन्दा है

श्लोक : ‘अश्वत्थामा बलिर्व्यासो हनुमांश्च विभीषणः। कृपः परशुरामश्च सप्तैते चिरंजीविनः नमो नमः॥’ अर्थात् : अश्वत्थामा, बलि, व्यास, हनुमान, विभीषण, कृपाचार्य और भगवान परशुराम ये सभी चिरंजीवी हैं, इन्हें नमस्कार है। 1. बलि : राजा बलिके दानके चर्चे दूर-दूर तक थे। देवताओं पर चढ़ाई करके राजा बलिने इंद्रलोक पर अधिकार कर लिया था। बलि सतयुगमें भगवान
Read More

जीवाणुओं - विषाणुओं का महाभारत में उल्लेख

जीवाणुओं – विषाणुओं का महाभारत में उल्लेख . Bacteria – Viruses mentioned in The Mahabharata अवध्यः सर्वब्रह्मभूता अन्तरात्मा न संशयः अवध्ये चात्मनि कथं वध्यॊ भवति केन चित !!१!! यथा हि पुरुषः शालां पुनः संप्रविशेन नवाम एवं जीवः शरीराणि तानि तानि परपद्यते !!२!! देहान पुराणान उत्सृज्य नवान संप्रतिपद्यते एवं मृत्युमुखं पराहुर ये जनास कर्मफलर्दर्शिनः !!३!! ये
Read More

वैदिक युग में ऋषियों ने किया था विद्युत् (बिजली) का आविष्कार

महर्षि अगस्त्य एक वैदिक ॠषि थे। इन्हें सप्तर्षियों में से एक माना जाता है। ये वशिष्ठ मुनि (राजा दशरथ के राजकुल गुरु) के बड़े भाई थे। वेदों से लेकर पुराणों में इनकी महानता की अनेक बार चर्चा की गई है, इन्होने अगस्त्य संहिता नामक ग्रन्थ की रचना की जिसमे इन्होँने हर प्रकार का ज्ञान समाहित
Read More